Posted by: rahulvai July 22, 2010
~ चौतारी १९६ ~
Login in to Rate this Post:     0       ?        


प्रेमिका (प्रेमी से) : सामने खिड़की में जो तोता-मैना बैठे हैं, दोनों रोज यहां आते हैं। साथ बैठते हैं, चहचहाते हैं, प्यार से एक-दूसरे को गुदगुदाते है और एक हम हैं कि हमेशा लड़ते ही रहते हैं। 
प्रेमी : तुमने उनकी एक चीज नोट नहीं की। यहां पर रोजाना बैठने वाले जोड़े में तोता तो वही होता है, पर मैना हमेशा नई होती है
Read Full Discussion Thread for this article